Smart Money Management

Smart Money Management Tips in Hindi

आप किसी न किसी माध्यम से पैसा कमाते हैं चाहे वो जॉब हो या बिज़नेस पर क्या आपको महीने के अंत में पैसे की Problem आती है ? तो इस आर्टिकल में, आप जानेंगे Smart तरीका Money Management का.

क्या आप फ्यूचर के लिए पैसा बचा पाते हैं ? आप पैसे तो कमाते हैं पर फिर भी पैसे की प्रॉब्लम बनी रहती है और आपको लगता है, शायद मैं इतना पैसा नहीं कमा पा रहा हूँ परन्तु ऐसा नहीं हैं प्रॉब्लम है स्मार्ट मनी मैनेजमेंट न होने की।

Money Management क्या है ?

Money Management का मतलब है अपने पैसे का प्रबंध करना, जिससे जो पैसा आप कमाते हैं उसके कितना Percent अपनी जरूरतों पर, कितना Percent Savings पर खर्च करते हैं.

मनी मैनेजमेंट एक फाइनेंस मैनेजमेंट हैं जिससे आप होने वाले खर्चों, बचत आदि को इस तरह से Manage करते हैं कि Money Problem  न तो Present में और न ही Future में आये.

यदि Money तो है पर उनका Management नही है तो क्या होगा ?

अपने सड़क किनारे बहुत से ऐसे चाट वाले, गोलगप्पे वाले, यानि छोटे स्तर पर काम करने वालों को देखा होगा, जिनकी दुकान में या ढेले पर काफी भीड़ होती है और वो इतना कमाते है की आप यकीन न कर पाएं, पर कई साल बाद भी, उनमे से 99% लोगों की Life Style वैसे ही रहती है.

ऐसा इसलिए होता है कि वो पैसे तो कमाते हैं पर मैनेजमेंट नहीं कर पाते और काफी पैसे कमाने के बाद भी मनी प्रॉब्लम बनी रहती है.

आप अपनी रूटीन लाइफ को तो अच्छी तरह मैनेज कर लेते हैं, पर यदि मैनेजमेंट नहीं है तो अचानक से सामने आने वाले खर्चों से आप प्रॉब्लम में आ जाते हैं और आपको पैसे उधार लेने पड़ जाते हैं.

Actually में हमारी Income कितनी भी बढ़ जाये यदि हम पैसे का मैनेजमेंट नहीं करेंगे तो हमेशा पैसे को लेकर हमारी प्रॉब्लम बनी रहेगी.

यह भी पढ़ें – SOFT SKILLS कैसे IMPROVE करें

क्या है Smart Money Management Tips

हम सभी अलग अलग तरीकों से इनकम जेनरेट करते हैं इसलिये कोई फिक्स तरीका तो नहीं है फिर भी कुछ इम्पोर्टेन्ट पॉइंट्स है जिनको Mind में रखना जरूरी है.

Smart Money Management के Important Points

1. अपनी इनकम और होने वाले खर्च का बजट बनाना.
2. खर्चों को कंट्रोल करना.
3. जरूरी खर्चो की लिस्ट बनाना.
4. बजट के अनुसार खर्च करना .
5. किन- किन खर्चों को कम करके Savings की जा सकती है.
6. अपने कर्ज आदि के लिए अलग से Money Arrangement Budget बनाना.
7. अचानक आने वाले बड़े खर्चों के लिए बचत करना.
8. अपनी बचत को Invest करना यानी निवेश करना.

Important Tips for Smart Money Management

मनी मैनेजमेंट के इम्पोर्टेन्ट टिप्स

1. खर्चों से ज्यादा बचत करने की आदत डालें.
2. निवेश की आदत डाले, पैसे घर में न रखकर, उन्हें किसी पालिसी, बचत खाते या बचत पत्र, F.D. आदि में निवेश करें.
3. सबसे पहले जो खर्च जरूरी है उन्हें करें, उसके बाद शोक के लिए खर्च करें.
4. अगर आप कोई क़र्ज़ लेते हैं तो वो अपने बिज़नेस के लिए या उस काम के लिए लें, जिसे Use करते हुए आप Income भी पैदा करते रहें और साथ ही उस Income से  Loan को भी चुकाते रहें.
5. अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए ऋण तभी लें जब आप उसको चुकाने के लिए पूरा मैनेजमेंट कर लें.
6. होने वाली आय और खर्चों में तालमेल बनाकर रखें, क्योंकि अगर खर्चे ज्यादा होंगे तो आप Problem में आ जायेंगे.
7. यदि इनकम खर्चो से ज्यादा हो रही है तो उस इनकम का Use आप सेविंग में करें और बाद में उस सेविंग को सही जगह Invest करें.
8.याद रखें छोटी छोटी बचत से एक बड़ी पूंजी बनती है.

Income Management Method

आय प्रबंधन विधि

100% = 50% + 20% + 20% + 10%

इनकम = ज़रूरी खर्चे + जमा + छोटी बचत + इक्षा से किये खर्च 

Income = Necessary Expenses + Deposit + Small Savings +  Expenses for Wishes 

दिए गए फार्मूला में मान ले की हमारी इनकम  100% रूपए है तो

1 . 50% हमारे ज़रूरी खर्चों के लिए खर्च होती है जो हमे करने ही करने हैं.

2. 20% हमे जमा करना होगा, जैसे पालिसी की किश्त, R.D., F.D. आदि

3. 20% छोटी बचत के लिए यानी जो आपके अचानक होने वाले खर्चों में काम आती है, इसे आप अपने बैंक में जमा कर सकते हैं जिसे अचनाक जरूरत पड़ने पर निकाला जा सके.

4. 10% यह खर्च वो हैं जो आप अपनी इच्छा से करते हैं जैसे कही घूमने जाना, रेस्टुरेंट में खाना आदि .

यह कॉमन Method है जिसे आप अपने According Adjust कर सकते है जैसे –

1- अगर ऋण लिया है तो बाकी खर्च कम करके एक हिस्सा उस ऋण को चुकाने के लिए.

2- अगर इनकम बढ़ जाती है तो अपनी बचत को बढाकर सेविंग करें.

3- अगर फ्यूचर में कोई बड़ा खर्चा करना है जैसे शादी, बच्चे को किसी कम्पटीशन की तैयारी तो हम इस Ratio को उस अकॉर्डिंग एडजस्ट कर सकते हैं.

इस तरह मनी मैनेजमेंट के जरिये हम आज और आने वाले समय में मनी प्रोब्लेम्स को काफी हद तक सॉल्व कर सकते हैं. मनी मैनेजमेंट के लिए आपको एक बुक बनानी होगी, जिसमें इनकम और खर्चों का विवरण ऊपर दिए फॉर्मूले के अकॉर्डिंग लिखें. जिससे आपको मालूम होगा कि कहा कहा कितना खर्चा हो रहा है और क्या क्या ऐसे खर्च हैं जिसको कम करके सेविंग की जा सकती है. और सेविंग को कैसे इन्वेस्ट किया जाये जो फ्यूचर में मनी प्रॉब्लम को सॉल्व कर सके.

दोस्तों उम्मीद करता हूँ यह आर्टिकल “स्मार्ट तरीका मनी मैनेजमेंट का | Smart Money Management ” आपको पसंद आया होगा। Please Comment के द्वारा बतायें। आपके किसी भी प्रश्न एवं सुझावों का स्वागत है। कृपया Share करें और जुड़े रहने की लिए Subscribe करें. धन्यवाद

Hello friends, I am Mukesh, the founder of ZindagiWow.Com to know more about me please visit About Me Page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *