Nick Vujicic Success Story

सोचिये किसी का एक हाथ काट जाएँ , कोई बात नहीं एक हाथ से काम चलाया जा सकता है। अगर किसी के दोनों हाथ काट जायें। बहुत मुश्किल हो जायेगा पर असंभव नहीं हैं। सोचिये किसी के दोनों हाथ और दोनों पैर काट जायें। ” सोचिये क्या लाइफ होगी ऐसे आदमी की क्या वो जी पायेगा। अगर  आप सोच रहें हैं यह असंभव सा लगता है तो आज बात करते हैं निक व्युजेसिक के असंभव को संभव करने की कहानी “Nick Vujicic Success Story”.

ये भी पढ़े : आपको कौन रोक रहा है ? Hindi Motivational Story on Positivity

निक व्युजेसिक एक ऐसी शख्सियत हैं जिनकी स्टोरी पढ़ने के बाद आप निराशा छोड़ देंगे। अगर आप ने हार मान ली है तो वापस से हिम्मत आ जायगी। निक व्युजेसिक वो शख्स हैं जिनके दोनों हाथ नहीं हैं लेकिन अपनी किस्मत उन्होंने खुद लिखी। दोनों पैर नहीं हैं, लेकिन आज सफलता की दौड़ में वो काफी दूर निकल गये हैं।  निक बहुत ही कमाल की लाइन कहते हैं “अगर आपके साथ चमत्कार नहीं हो सकता, तो खुद एक चमत्कार बन जाइए।”

असंभव को संभव करने की कहानी | Nick Vujicic Success Story

Nick Vujicic Success Story
Image Credit

आज निक व्युजेसिक एक सफल मोटिवटीनल स्पीकर (प्रेरक वक्ता), एक्टर और ऑस्ट्रेलियाई प्रचारक के रूप में जाने जाते हैं। निकोलस जेम्स वुजिसिक का जन्म 4 दिसंबर, 1982 को हुआ था।  जन्म से ही निक  टेट्रा-अमेलिया सिंड्रोम के साथ पैदा हुए।  टेट्रा-अमेलिया सिंड्रोम एक दुर्लभ विकार है, जिसमें हाथ और पैर शरीर में नहीं होते हैं।

जन्म से ही ऐसा जीवन बिताना यकीनन निक के लिए काफी संघर्ष भरा रहा होगा।  जब वो दुसरे बच्चों को भागते खेलते देखते होंगे तो उन्हें कैसा फील होता होगा। निक हमेशा अपने आप से यही सवाल पूछते थे की क्या मेरी  सारी जिंदगी ऐसे ही निकल जायगी। मेरे जीने का कोई मकसद है या नहीं ? लेकिन भगवान पर भरोसा और कठिनाइयों से लड़ने की विश्वाश शक्ति के माध्यम से जीवन की चुनौतियों को पार कर लिया है।

Nick Vujicic Success Story

Image Credit

उनके माता-पिता ने उन्हें काफी प्रेरित किया।  विकलांग स्कूल भेजने के बजाये उन्होंने निक को एक सार्वजनकि स्कूल में भेजा।  निक कहते हैं जीवन में जिनसे लोग भी मिले, चाहें वो दोस्त हो, रिश्तेदार हो या सहकर्मी हो, उन सभी ने उन्हें काफी प्रेरित किया।

जब निक 17 साल के थे और हाई स्कूल में पढ़ते थे तो अक्सर वो वहां के चौकीदार से बात किया करते थे। चौकीदार जब उनकी बात सुनता तो बहुत प्रभावित होता।  एक दिन चौकीदार ने निक को बताया की आप एक वक्ता बनने जा रहे हैं।  चौकीदार की इस बात ने निक का जीवन हमेशा के लिए बदल दिया। निक ने फैसला किया की वो अपनी कहानी से दूसरे लोगो को प्रोत्साहित करेंगे।

Nick Vujicic Success Story

Image Credit

 निक ने  कुछ दोस्तों की मदत से यह खबर फैला दी की निक भाषण देंगे। निक ने छह छात्रों के के सामने अपना पहला भाषण दिया। वो छह छात्र बहुत प्रभावित हुए वो उनके फैन बन गए। धीरे धीरे उनके प्रशंसकों की संख्या बढ़ गई। निक ने एक नॉन प्रॉफिट संगठन ‘लाइफ विदाउट लिम्ब्स’ की स्थापना की। जिसमे वह अपनी कहानी से लोगो को मोटीवेट करते थे और उन लोगों  के खिलाफ अभियान चलाने थे जो दूसरों पर धोस दिखते थे गुंडागर्दी करते थे।

Nick Vujicic Success Story

 

Nick Vujicic Family
Image Credit

सन 2008 में निक की मुलाकात एक लड़की से हुई जो उनकी मोटिवेशनल स्पीच से बहुत प्रभावित हुई।  दोनों में  प्यार हुआ और उन्होंने चार साल बाद शादी कर ली। आज निक व्युजेसिक चार बच्चों का पिता है और अपनी लाइफ में बहुत खुश हैं।

17  साल की उम्र में अपने पहले भाषण से लेकर अब तक निक लगभग पुरे वर्ल्ड की यात्रा कर चुके हैं।  आज निक सबसे ज्यादा डिमांडिंग स्पीकर हैं। निक विज्ञापन, फिल्मो में भी अपना अभिनय दिखा चुके हैं। आज निक के पूरे वर्ल्ड में  करोड़ों प्रशंसक हैं। युवाओं के आइडल हैं। निक अपने खाली  समय में पेंटिंग, स्विमिंग, स्काइडाइविंग भी करते हैं। निक आज सक्सेसफुल राइटर भी हैं। उनकी पहली बुक को 30 भाषाओं में अनुबाद किया गया है।

जहाँ लोग छोटी छोटी परेशाओं से हिम्मत हार जाते हैं, वही निक की कहानी हमें असंभव को संभव करना सिखाती है। अपनी सकारात्मक दृस्टि से कुछ भी संभव है।  ऊपर वाला कुछ लेता है तो बदले में बहुत कुछ देता है बस आपको पहचानने की देर है। कभी भी उम्मीद न छोड़ें  अपने आप पर भरोसा रखें और बिना पीछे देखें लाइफ में आगे बढ़ते रहें।

असंभव को संभव करने की कहानी | Nick Vujicic Success Story ” आपको कैसी लगी कृपया कमेंट के माध्यम से अवश्य बतायें, आपके किसी भी प्रश्न एवं सुझावों का स्वागत है। कृपया Share करें और जुड़े रहने की लिए Subscribe करें. धन्यवाद

 

2 Replies to “असंभव को संभव करने की कहानी | Nick Vujicic Success Story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *