Mother Teresa Hindi Quote

Mother Teresa Hindi Quote on Love and Philanthropy – आज इंसान जो सिर्फ अपने लिये जीता है, वही दूसरी और मदर टेरेसा ने अपना पूरा जीवन निर्धन, बेसहारा और जरुरतमंदों की सेवा और कल्याण में लगा दिया।  मदर टेरेसा समाज के लिए प्रेरणा का उदाहरण है। आइये जानते हैं प्यार और परोपकार पर मदर टेरेसा के महान और अनमोल विचारों को Mother Teresa Hindi Quote –

प्यार और परोपकार पर मदर टेरेसा के अनमोल विचार 

Mother Teresa Hindi Quote

 

1) “कुछ लोग आपकी ज़िन्दगी में आशीर्वाद के रूप में आते हैं और कुछ लोग आपके ज़िन्दगी में सबक के रूप में आते हैं। – मदर टेरेसा

2) “हमारा दिल कितना बड़ा है और हम कितने खुले विचारों के हैं इसको इस बात से मापा जा सकता है कि हम जिसे परिवार कहते हैं, उसका दायरा कितना बड़ा है।” – मदर टेरेसा

3) “विश्वाश का फल है प्यार और प्यार का फल सेवा है।” – मदर टेरेसा

4) “ईश्वर कभी भी यह अपेक्षा नहीं करते कि आप सफल ही हों, ईश्वर हमेशा से इतना ही चाहते हैं कि आप प्रयास करना न छोड़ें।” – मदर टेरेसा

5) “प्रेम ही एक ऐसा फल है जो हर मौसम में मिलता है और हर कोई इसे पा सकता है। ” – मदर टेरेसा

6) “प्यार की भूख को मिटाना, रोटी की भूख को मिटाने से कहीं ज्यादा मुश्किल है।” – मदर टेरेसा

7) “हम सभी मिलकर एक महान कार्य कर सकते हैं। ” – मदर टेरेसा

8) “गरीबी भगवान ने नहीं बनाई है, इसका कारण आप और हम ही हैं जिन्होंने अपने अहंकार के माध्यम से इसको बनाया है। ” – मदर टेरेसा

9) “कल बीत चुका है, कल अभी नहीं आया है, हमारे पास केवल आज है, चलिए शरुआत करते हैं।” – मदर टेरेसा

10) “केवल धन का दान देना ही पर्याप्त  नहीं हैं, इससे आपको पूर्ण संतुष्टि नहीं मिलेगी। आपके प्रेम की भी उन्हें आवश्यकता हैं। जहाँ भी जायें अपना प्रेम बांटे।” – मदर टेरेसा

Mother Teresa Hindi Quote on Love and Philanthropy

11) “जीवन एक संघर्ष है, जिसका सामना हमें करना चाहियें।” – मदर टेरेसा

12) “जब भी हम किसी से मिले मुस्कुराहट के साथ मिलें, यही से प्रेम की शुरुवात होगी।” – मदर टेरेसा

13) “यदि हम विनम्र है तो हमे कोई नहीं बदल सकता।  न ही प्रशंसा, और न ही आलोचना।” – मदर टेरेसा

14) “अनुशासन लक्ष्यों और सिद्धि के बीच का सेतु है।” – मदर टेरेसा

15) “हमारे पास जितना कम होगा, हम उससे ज्यादा देंगे, यह सुनने में बेतुका लगता है। लेकिन यह प्यार का तर्क है। ” – मदर टेरेसा

16) “बहुत सारे बच्चे कैसे हो सकते हैं? यह कहना कि बहुत सारे फूल हैं।” – मदर टेरेसा

17) “आपको अपने पड़ोसियों की लिए भी चिंतित होना चाहियें, पर क्या आप जानते हैं की आपका पडोसी कौन है ?” – मदर टेरेसा

18) “यही हम केवल अपने बारे में ही चिंतित होते रहेंगे, तो हमारे पास दूसरों के लिए समय नहीं होगा।” – मदर टेरेसा

19) “यदि आप दुनियाँ में प्रेम फैलाना चाहते हैं तो पहले अपने घर जाइये और अपने परिवार से प्रेम करें।” – मदर टेरेसा

20) “कभी कभी अंदर से एक अच्छी भावना बाहरी खूबसूरती की तुलना में बहुत अधिक होती है।” – मदर टेरेसा

21) “अकेलापन और किसी के द्वारा न चाहने की भावना का होना एक भयानक गरीबी के सामान है। ” – मदर टेरेसा

Mother Teresa Hindi Quote on Love and Philanthropy

22) “मैं महान काम नहीं करती बल्कि छोटे छोटे काम को बड़े प्यार के साथ करती हूँ। ” – मदर टेरेसा

23) “दया और प्रेम भरे शब्द भले ही छोटे लगते हों , लेकिन वास्तव में उनकी गूँज अन्नत होती है।” – मदर टेरेसा

24) “लिखने वाला भगवान है, मैं तो केवल उनके हाँथ की पेन्सिल हूँ। जो वो चाहते हैं लिखते हैं।” – मदर टेरेसा

25) “जरूरी नहीं हैं कि खूबसूरत लोग हमेशा अच्छे हों, लेकिन अच्छे लोग हमेशा ही खूबसूरत होते है।” – मदर टेरेसा

26) “अगर आप अभी हतोत्साहित हैं, तो यह गर्व की निशानी है क्योंकि अभी आपको अपनी शक्तियों पर भरोसा करना सिखाता है।” – मदर टेरेसा

27) “जो जीवन सिर्फ अपने लिए जिया जाये, वो जीवन बेकार है।” – मदर टेरेसा

28) “यही आप 100 लोगों को नहीं खिला सकते तो कम से कम एक को तो खिलाइये।” – मदर टेरेसा

29) “पेड़, फूल और पौधे शांति में विकसित होते हैं, सितारे, सूर्य और चंद्रमा शांति से गतिमान रहते हैं, यह शांति ही है जो हमें नयी संभावनाएं देती है। ” – मदर टेरेसा

30) “शांति की शुरुआत हमेशा से ही मुस्कुराहट के साथ हुई है।” – मदर टेरेसा

31) “कुष्ठ रोग और  तपेदिक सबसे बड़ी बीमारी नहीं हैं बल्कि अवांछित होना ही सबसे बड़ी बीमारी है।” – मदर टेरेसा

Mother Teresa Hindi Quote on Love and Philanthropy

32) “मुझे लगता है हम लोगो का दुखी होना अच्छा है, मेरे लिए तो यह यीशु के चुम्बन की तरह है।” – मदर टेरेसा

33) “यीशु कहते हैं एक दूसरे से प्रेम करो। उन्होंने यह नहीं कहा की समस्त संसार से प्रेम करो।” – मदर टेरेसा

34) ” जीवन एक अवसर है, इससे लाभ लें। जीवन सौंदर्य है, इसकी प्रशंसा करें। जीवन एक सपना है, इसे साकार करें।” – मदर टेरेसा

35) “जीवन एक संगीत की तरह है आप इस गुनगुनाएं, जीवन एक संघर्ष की तरह भी है आप इसे स्वीकार करें।” – मदर टेरेसा

36) “शांति लाने के लिए बन्दुक और बम की जरूरत नहीं है, बल्कि हमें प्यार और करुणा की ज़रूरत है।” – मदर टेरेसा

37) “हर पल खुश रहिये, यही काफी है, यही हमारी ज़रुरत है इससे ज्यादा कुछ नहीं।” – मदर टेरेसा

38) “जब आपके पास कुछ नहीं होता है तब आपके पास सबकुछ होता है।” – मदर टेरेसा

39) “जो शब्द ईश्वर को प्रकाश नहीं देते वो शब्द अंधकार को बढ़ाते हैं। ” – मदर टेरेसा

40) “जिस देश में  गर्भपात को स्वीकार किया जाता है वह देश प्यार करना नहीं सिखात बल्कि हिंसा करना सिखाता है।” – मदर टेरेसा

41) “असाधारण प्रेम के साथ सामान्य बातें करें।” – मदर टेरेसा

Mother Teresa Hindi Quote on Love and Philanthropy

42) “यदि हम आज बर्बाद कर रहें हैं तो हमे भविष्य के लिए डरना चाहियें।” – मदर टेरेसा

43) “मैंने पहले कभी युद्ध में देखा, लेकिन मैंने अकाल और मृत्यु देखी है। जब लोग ऐसा करते हैं तो उन्हें क्या लगता है? मैं इसे नहीं समझ पाती। हम सभी भगवान की संतान हैं। पर वो ऐसा क्यों करते हैं? मुझे समझ नहीं आया।” – मदर टेरेसा

44) “आनंद प्रार्थना है, आनंद ही शक्ति है, आनंद ही प्रेम है, आनंद एक प्रेम का जाल है जिसके द्वारा आप आत्माओं को पकड़ सकते हैं।” – मदर टेरेसा

45) “अगर हम यह महसूस करते हैं कि हम जो कर रहे हैं वह सिर्फ सागर में गिरने वाली बूंद के सामान है, लेकिन उस एक बूद के कारण महासागर कुछ तो काम होगा।” – मदर टेरेसा

46) “हमें ईश्वर को खोजने की जरूरत है, और वह शोर और बेचैनी में नहीं पाया जा सकता है। भगवान मौन के मित्र हैं।  हमें आत्माओं को छूने में सक्षम होने के लिए मौन की आवश्यकता होती है। – मदर टेरेसा

47) “बहुत लोग अपना जीवन जीने के लिए बहुत मेहनत करते और जोखिम उठाते हैं। मुझे तब गुस्सा आता है जब में बर्बादी देखती हूँ। कुछ लोग ऐसे चीज़ो को फकते हैं जिन्हे इस्तिमाल किया जा सकता है।” – मदर टेरेसा

48) “किसी के लिए कभी कुछ न करना ही सबसे बड़ा रोग है। – मदर टेरेसा

49) “सभी मनुष्य भगवान के हांथों में एक कठपुतली की तरह हैं। ” – मदर टेरेसा

50) “किसी के द्वारा न चाहने की भावना और अकेलापन का होना यह भयानक गरीबी के सामान है।” – मदर टेरेसा

51) “कर्म ही जीवन है, मनुष्य सेवा ही सबसे बड़ा कर्म है।” – मदर टेरेसा