IQ or EQ

IQ (Intelligence Quotient) और EQ (Emotional Quotient) दोनों का संतुलन ( Management) जिंदगी में बहुत अनिवार्य है। समय के साथ हमारी प्रोफेशनल लाइफ बदलती जा रही हैं। पहले माना जाता था की सफलता के लिए IQ का होना जरूरी है पर केवल अपने कार्य में दक्ष होना ही काफी नहीं है। EQ यानि भावात्मक समझ होना भी बहुत जरूरी है। 

Q (Intelligence Quotient) क्या है ?

IQ यह शब्द आपने बहुत बार सुना होगा। IQ जर्मन शब्द Intelligence Quotient से बना है। Intelligence Quotient का मतलब आपकी बुद्धि द्वारा सोचने समझने की क्षमता। यानि आप जितने बुद्धिमान होंगे आपका IQ Label उतना ही अच्छा होगा। किसी भी काम में सफल होने के लिए उसकी समझ होना बहुत जरूरी है। जब IQ Label अच्छा होता है तो आप चीज़ो को बेहतर तरीके से कर पाते हैं। चीज़ों को याद रख पाते हैं। समस्यायों को आसानी से सॉल्व कर पाते हैं और निर्णय लेने की क्षमता भी अच्छी होती है। 

EQ (Emotional Quotient) क्या है ?

EQ यह शब्द आपमें कम सुना होना। इसका सम्बन्ध हमारी भावनाओं से है यानि अपने और सामने वाले के फीलिंग्स को पहचान पाना। आपका EQ जितना अच्छा होगा आप चीज़ो को उतना ही अच्छा महसूस कर पाएंगे। EQ के द्वारा ही आप किसी भी काम में अपने आप को प्रेरित कर पाते हैं। अपने गुस्से को काबू में रख पाते हैं।

IQ और EQ का आपस में रिलेशन  

लाइफ में सफल होने के लिए  IQ (Intelligence Quotient) और EQ (Emotional Quotient) दोनों का होना बहुत जरूरी है। आपने अपने आस पास बहुत से ऐसे लोगों को देखा होगा जो अपने काम में माहिर होते  हैं पर उसके अनुकूल उन्हें कामियाबी नहीं मिलती। इसका सीधा सम्बन्ध भावनात्मक क्षमता की कमी है। ऐसे लोग हमेशा यही सोचने हैं की वो अपने काम में परफेक्ट है और दूसरा व्यक्ति गलत है और उन्हें नहीं समझ पा रहा है। ऐसी ही सोच उनकी सफलता की रुकावट है। वो अपने काम को  तो समझ लेते हैं पर लोगों और उनकी भावनाओं को नहीं समझ पाते। 

IQ और EQ मॅनॅग्मेंट

यदि किसी व्यक्ति का IQ लेबल अच्छा है पर EQ लेबल कम है तो क्या होगा – वो अपनी प्रोफेशनल लाइफ हो सकता है अच्छी तरह से हैंडिल कर लेगा पर EQ लेबल कम होने की वजह से वो अपनी और दूसरों की फीलिंग्स को नहीं समझ पायेगा जैसे संग काम करने वाले लोग अपने माता पिता, पत्नी, बच्चे आदि। जिसकी वजह से झगडे होंगे और इसका सीधा सा असर उसकी प्रोफेशनल लाइफ पर होगा। 

इसका सीधा सा मतलब यह है की यदि आपका  IQ लेबल अच्छा है पर EQ लेबल कम है तो आप काम तो कर पायेंगे पर आपको अपने काम में संतुष्टि कभी नहीं मिलेगी जिससे आप उतने सफल नहीं हो पायेंगे जितना आपको होना चाहियें। 

इसी तरह यदि आपका  EQ लेबल अच्छा है पर  IQ लेबल कम है तो यह भी सही नहीं है आप अपने सभी निर्णेय भावनाओ में आकर करेंगे। जैसे किसी की बात का बहुत जल्दी बुरा मान  जाना, किसी की बातों  में आसानी से आ जाना ऐसे लोग जीवन में बहुत दुखी रहते हैं। 

एक स्टूडेंट्स सेमिनार में भारत में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने IQ और EQ को बहुत अच्छी तरह समझाया जो में आपके साथ शेयर कर रहा हूँ – एक छोटा सा बच्चा 4 – 5 महीने का पालने में खेल रहा है। पालने में एक घुंघरू बंधा हुआ है और माँ उस घुँगुरु पर थप मारकर जाती है। उसमे से घुँघुरु की आवाज़ आती है। बच्चा देखता है की माँ ने ऐसा किया और घुँगुरु की आवज़ आई। माँ तो अपने काम में लग गई और बच्चा अपने पैर ऊपर करके उस घुँगुरु तक पहुंचने की कोशिश करता है ताकि घुँगुरु बज जाये। काफी देर तक बच्चा ऐसा करता रहेगा जिससे घुँगुरु बज जाये और आवाज़ आये क्योंकि माँ ने ऐसा किया था। इसी को  IQ कहते हैं।

अब माँ ने सोचा बच्चे को सुला दिया जाये तो माँ बहुत अच्छा सा गाने वाला एक सीडी झूले के पास चलाती है जिससे वो गाना बजेगा और बच्चा सो जायेगा। पर इतने अच्छे गाने के बाबजूत बच्चा रोना बंद नहीं कर रहा है।  माँ काम छोड़ दौड़ कर आती है और टेपरिकॉर्डर बंद करती है और अपनी फटी आवाज़ से गाना शुरू करती है और बच्चा सो जाता है। इसी को EQ कहते हैं।

आपने देखा इसमें IQ भी काम आया और EQ भी काम आया। इसलिए जीवन में IQ और EQ का संतुलन होना बहुत जरुरी है। IQ और EQ मॅनॅग्मेंट द्वारा ही जीवन में सफलता हांसिल की जा सकती है। जहाँ एक और  IQ का मतलब कुछ नया सीखना है वही EQ द्वारा आपमें रिस्क लेने की क्षमता आती है। 

यह भी पढ़ें –

चेतन और अवचेतन मन क्या है और कैसे काम करता है?

ध्यान (Meditation) क्या है और ध्यान कैसे करना चाहियें ?

 

दृण इच्छाशक्ति (Will Power) क्या है और इच्छा शक्ति कैसे बढ़ाएं ?

नकारात्मक विचारों से छुटकारा कैसे पायें ?

सकारात्मक मनोवृत्ति के साथ किसी भी चुनौती का सामना।

I Hope आपको यह आर्टिकल ‘IQ और EQ मॅनॅग्मेंट लाइफ में क्यों हैं जरूरी ? IQ – EQ Management’ आपको पसंद आया होगा। यह आर्टिकल आपके लिए कितना हेल्पफुल है कमेंट द्वारा अवश्य बतायें। यदि आपका कोई सुझाव है या इस विषय पर आप कुछ और कहना चाहें तो आपका स्वागत हैं। कृपया Share करें और जुड़े रहने की लिए Subscribe जरूर करें. धन्यवाद

2 Replies to “IQ और EQ मैनेजमेंट लाइफ में क्यों हैं जरूरी ? Intelligence Emotional Management In Hindi

  1. good morning sir,,,sandar really,,,,ap ese hi artical banate rho ,,,jis se logo ka bhala ho,,,,thank u sir,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *