अगर आपके पास DSA है तो आप कुछ भी कर सकते हैं..If you have a DSA you can do anything

If you have a DSA you can do anything

If you have a DSA you can do anything

अगर आपके पास DSA है तो आप कुछ भी कर सकते हैं

दोस्तो DSA एक ऐसा फ़ॉर्मूला है जिससे दुनिया का कोई भी काम, जो आप करना चाहते है, कर सकते हैं. you can do everything by use this formula.

दोस्तों हैरान होने की बात नहीं है यह Science का कोई Difficult Formula नहीं है बल्कि ये ऐसे ३ शब्दो से बना है जिससे आप भली भाती पर्चित हैं – दोस्तों DSA का फुल्फ़ोर्म है – D  धैर्य (Patience) . S साहस (Courage) . A अलग ( Different).

दोस्तों ये तीन शब्द सफलता की वो कड़ियाँ है जिन्हें आप जोड़ दें तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। तो आइये जानतें हैं इन शब्दों के महत्व को।

D  धैर्य (Patience) –

जब जो होना हैं वो तभी होता है “अगर आपमें धीरज है, संतोष है तो एक दिन उस चीज को जरूर पा लेंगे जो आप हासिल करना चाहते हैं”. अगर हम किसी पौधे को रोज़ १०० मटके पानी देंगें तो क्या वो जल्दी बढ़ जायेगा ? उसमे क्या जल्दी फल फूल आने लगेंगे ?, नहीं जब उसको बढ़ना है जो समय है वो उस समय में ही फल फूल देगा, हम तो उसके अच्छी देखभाल कर सकते हैं रोज़ सूरज की रौशनी, खाद, पानी, खुला वातावरण या जो भी उसकी जरूरत है उन सब चीज़ों का ख्याल रख सकते हैं तभी वो बढ़ेगा, तभी वो खिलेगा .

दोस्तों हमारी यही प्रॉब्लम है हम बिना सोचे समझे काम शरू कर देते हैं और कुछ कोशिशों के बाद काम नहीं होता है तो हार मन लेते हैं और पीछे हो जाते हैं और बहाना होता है ये काम बेकार है या मेरे बस का नहीं है, जबकि होना ये चाहियें की जो भी इस काम की जरूरत हैं उसे अपने अंदर Developed करनी चाहिए और पूरी ईमानदारी से 100% देना चाहिए और धैर्य रखना चाहियें की ये काम में जरूर कर लूंगा।

दोस्तों यकीन मानिये अभी आपका जो भी टारगेट है जो भी आप अचीव करना चाहते हैं पूरी ईमानदार से १००% उस काम को दीजिए और समय दीजिये आप जरूर सफल होंगे

S साहस (Courage) –

कोई काम कठिन नहीं होता, अगर कोई और कर सकता है तो आप क्यों नहीं, और पहले आप ही क्यों नहीं, कर सकते ! आप सोचिये! अगर मैं कुछ नहीं कर पा रहा हूँ तो क्यों नहीं कर पा रहा हूँ, क्योंकि वो करना कठिन हैं, क्या मुझे डर लगता है या मैं आलसी हूँ  या वो इतना कठिन है की मैं कर ही नहीं सकता।  जबाब है – वो आप इसलिए नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि आप साहस ही नहीं कर पा रहे हैं।

क्या है ये साहस – अगर आप कुछ करने के लिए पक्का इरादा कर लें और कुछ भी हो जाये वो करना ही करना है तो जो इस इरादे को मजबूत बनती है वो है आपका साहस। आप कितना ही पक्का इरादा क्यों न कर लें अगर साहस नहीं है तो कुछ भी नहीं है –  “गांधी जी के पास फर्स्ट क्लास का टिकट था। उन्हें थर्ड क्लास वाले डिब्बे में जाने के लिए कहा गया। लेकिन गांधी जी ने इससे इनकार कर दिया तो उन्हें जबरदस्ती स्टेशन पर ट्रेन से धक्का देकर उतार दिया। तभी गाँधी जी ने पक्का इरादा कर लिया की देश को तो इन अंग्रेजों से मुक्त कराऊंगा और उन्होंने साहस दिखाकर इस इरादे को हकीकत मैं बदला।”

नेल्सन मंडेला ने कहा था ” मैंने यह जाना है की डर का न होना साहस नहीं है, बल्कि डर पर विजय पाना साहस है, बहादुर वो नहीं है जो भयभीत नहीं होता, बल्कि वो है जो इस डर को परास्त  करता है। “

A अलग ( Different) –

सफल लोग कोई अलग काम नहीं करते बल्कि बल्कि किसी भी काम को अलग तरीके से करते हैं। इसी अलग सोच ने एक दुकान से Amazon, Flipkart जैसी कम्पनीज को जन्म दिया, यही अलग सोच होम डिलीवरी बन जाती है। यही अलग पिज़्ज़ा, बर्गर बेचने से डोमिनोस और बर्गेर किंग  बन जाते हैं।  दोस्तों काम कोई भी हो आपकी सोच ही उसे अलग बनती है।  जो भी करें क्रिएटिव करने कुछ अलग अंदाज़ से करें।

DHERYA + SAHAS + ALAG = SAFALTA

तो यही है सफलता का वो फार्मूला जो आपको कामियाब बनाएगा

ये भी पढ़ें

“जल्दी और अच्छी नींद के तरीके”

लाइफ को आसान बनाते बेस्ट कोट्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *