कठिनाइयों को दूर करने की विश्वाश शक्ति (Faith Power) :Real Life Motivational Story About Athlete Superstar

Real Motivational Story Hindi – कठिनाइयाँ, मुसीबत, परेशानी सब कुछ दूर हो जाती हैं, जब आपके पास होती है विश्वाश शक्ति (Faith Power). कठिनाइयों को दूर करने की विश्वाश शक्ति – Faith Power to overcome difficulties : Real Life Motivational Story About Athlete Superstar.

मित्रों, कौन ऐसा व्यक्ति होगा जिसके जीवन में कभी दुःख नहीं आये , परेशानियां नहीं आयी, शायद कोई नहीं। कठियाईयाँ आती हैं, परेशानियां हैं पर कुछ लोग बिखर जाते हैं और कुछ सवर जाते हैं।

कठिनाइयों, परेशानियों को आप रोक नहीं सकते और उन्हें नष्ट भी नहीं कर सकते, अमीर हो, गरीब हो कोई फर्क नहीं पड़ता, आप अपने आप को कोस सकते हैं, उस ऊपर वाले को कोस सकते हैं, आप कह सकते हैं कि मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है, पर सच्चाई तो यह है कि ऐसा सबके साथ होता है, क्योंकि ये हमारे हाँथ में नहीं है, हमारे हाथ में तो सिर्फ एक चीज़ है और वो चीज़ है विश्वाश की शक्ति (Faith Power).

इस दुनिया में बहुत से लोग हुए जिन्होंने इसी विश्वाश की शक्ति (Faith Power) से कठियाईयों का सामना ही नहीं किया बल्कि कामियाबी का वो आसमान भी छुआ, जिससे दुनिया उन्हें सलाम करती है और उनका जीवन हमें Motivate करता है।

आइये, हम जानते हैं उस व्यक्ति के बारे में जिसने अपनी विश्वाश शक्ति से उन कठियाईयों को हराया, जो सुनने में शायद असम्भव लगती हैं हम बात कर रहे है ग्लेन कनिंगम (Glenn Cunningham (Athlete) की.

Real Life Motivational Story About Athlete Superstar

ग्लेन कनिंगम की जब स्कूल में पढ़ते थे, एक दिन जब वो स्कूल गए तो अचनाक उस कमरे में आग लग गई जहाँ वो अपने भाई के साथ उस कमरे की सफाई कर रहे थे. आग इतनी भयानक थी कि भाई ने वही अपना दम तोड़ दिया. पर उस बच्चे की सांसें चल रही थी, हॉस्पिटल लाया गया, शायद ही किसी को लग रहा था की वो अच्छा बच पायेगा पर वो बच गए, लेकिन उनके दोनों पर बुरी तरह से जल गए. डॉक्टर ने उनके माता पिता को बुलाया और कहा उनके कमर का निचला हिस्सा बेजान हो गया है हमें उनके दोनों पर काटने होँगे। अगर ऐसा नहीं किया तो जहर पूरी बॉडी में फ़ैल सकता है।

ये भी पढ़े : आपको कौन रोक रहा है ? Hindi Motivational Story on Positivity

Real Life Motivational Story About Athlete Superstar

सब लोग तैयार हो गये, क्योंकि शायद कोई रास्ता नहीं था, पर एक व्यक्ति तैयार नहीं हुआ, वो बहादुर बच्चा Glen Kaningam. डॉक्टर्स को उसकी ज़िद के आगे झुकना पड़ा और ऑपरेशन शुरू किया, आखिरकार वो बच गए।

वो बच्चा अब Wheelchair पर था और शायद पूरी Life Wheelchair पर रहता और अपने नसीब को कोसता, पर ऐसा नहीं हुआ, उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और एक दिन Wheelchair से अपने आप को आप को नीचे गिरा दिया और पूरी ताकत और Willpower से वो खड़े हो गए, लेकिन फिर गिर गये, उन्होंने न जाने कितनी बार कोशिश की पर असफल होते गए, पर क्या उनको हार मान लेनी चाहियें थी ?

जो जीतना चाहता है, वो कभी हार नहीं मानता क्योंकि उसकी अंदर Faith Power होती है, क्योंकि वो जीतने पर विश्वाश करता है, बार बार असफल हो जाना तो प्रयास है, और एक दिन वो अपने प्रयास में कामियाब हो गए और अपने पैरों पर खड़े हो गये और इसी प्रयास के साथ चलने लगे और स्कूल भी चल कर जाने लगे, वो लोग Surprised थे जिनको लग रहा  था कि वो नहीं चल पाएंगे।

अब बारी थी उन्हें सपना पूरा करने की और इसी सपने को लेकर प्रयास करते रहे और आखिरकार दौड़ने भी लगे. उन्होंने 13 साल की उम्र में America में एक किलोमीटर की Race जीती और 1932 में लगभग 23 साल की उम्र में लांस अंजिला ओलम्पिक में हुई 1500 मीटर की रेस में 4th स्थान प्राप्त किया।

Faith Power to overcome difficulties Real Life Motivational Story About Athlete Superstar
Image Source Real Motivational Story Hindi

1936 में बर्लिन ओलम्पिक में 1500 मीटर की रेस में सिल्वर जीता। इसके बाद उन्होंने 1500 मीटर दौड़ में 7 बार इनडोर का World record बनाया .

Faith Power to overcome difficulties Real Life Motivational Story About Athlete Superstar
Real Motivational Story Hindi Image Source : Wikipedia.org  

मित्रों, हम छोटी-छोटी Problems में अपने नसीब को कोसते हैं और हिम्मत हार जाते हैं, निराशा के बादल में घिर जाते हैं तो Glen Kaningam में ऐसे क्या था ? जी हैं , Glen Kaningam में था विश्वाश (Faith Power )

यह पोस्ट “कठिनाइयों को दूर करने की विश्वाश शक्ति (Faith Power) ” कैसी लगी और आपको कितना मोटिवेट मिला, कृपया कमेंट कर अवश्य बतायें, आपके किसी भी प्रश्न एवं सुझावों का स्वागत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *